रमजान क्यों मनाया जाता है? इसकी पूरी सच्चाई क्या है?

ramazan kiu manaya jaata hai
ramazan kiu manaya jaata hai

रमजान क्यों मनाया जाता है? इसकी पूरी सच्चाई क्या है? अगर आप किसी भी मुस्लिम समुदाय के लोगों से ये बात पूछें तो आपको वह जरूर बता सकते हैं।

कि रमजान क्यों मनाया जाता है? लेकिन शायद आप अगर दूसरे समुदाय के लोगों को इसके बारे में पूछे तो वह नहीं बता सकते है।

मुझे लगता है कि एक भारतीय होने के नाते हमें पता होना चाहिए कि रमजान क्या है, और इसे क्यों मनाया जाता है।

भारत सहित दुनिया के अन्य देशों में अल्लाह के प्रति श्रद्धा के लिए रमजान के पवित्र महीने में मुसलमानों द्वारा रोजे रखे जाते हैं।

रमजान में मुसलमानों द्वारा अल्लाह के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए रोजा रखा जाता है।

मुस्लिम समुदाय के इस पवित्र त्योहार में रमजान का महीना यानी “इबादत” का महीना कब शुरू हुआ?

मुस्लिम समुदाय द्वारा रोजा रखने की वजह क्या है? रमजान के इतिहास और रोजे को रखने का क्या महत्व है?

आपको रमजान के बारे में पूरी जानकारी दी जा रही है! इसलिए, यदि आप भी रमजान के विषय पर जानना चाहते हैं, तो आप सही Article पर आए हैं ।

वैसे, हमने आपको सही जानकारी पहुंचाने की पूरी कोशिश की है।

तो चलिए आज बिना देरी के इस आर्टिकल की शुरुआत करते हैं और सबसे पहले जानते हैं कि रमजान क्या है, और रमजान क्यों मनाया जाता है।

रमजान क्या है?

रमजान (उर्दू- अरबी – फारसी: رمضان) इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना है।

मुस्लिम समुदाय इस महीने को बिल्कुल पवित्र मानता है। रमजान शब्द अरब से निकला है ।

यही है, यह एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ है “चिलचिलाती गर्मी और सूखापन”।

जैसा कि मैंने पहले ही उल्लेख किया है, इस्लामी कैलेंडर के अनुसार, नौवां महीना रमजान का महीना है,

जिसमें हर साल मुस्लिम समुदाय द्वारा रोजे रखे जाते हैं! इस्लामी मान्यताओं के अनुसार, यह महीना “अल्लाह से पूजा” का महीना है!

रमजान के मौके पर मुस्लिम समुदायों द्वारा पूरे महीने रोजा रखा जाता है।

उपवास रखने के लिए वास्तव में “ईमानदारी से अल्लाह के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का मतलब है।

” हालांकि, वे धार्मिक लोग, जिनका स्वास्थ्य इस अवधि में बिगड़ता है, बुढ़ापे के होते हैं।

जो गर्भावस्था और अन्य समस्याओं के कारण उपवास नहीं रख पाते हैं, उन्हें उपवास करने की अनुमति नहीं है।

रमजान कैसे मनाया जाता है?

ramzan article
रमजान क्यों मनाया जाता है

Ramzan के महीने के दौरान रोजे के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोग दिन भर भोजन या जलपान का सेवन नहीं करते हैं।

इसके अलावा, इस अवधि के दौरान सिगरेट और तंबाकू जैसी बुरी आदतों का सेवन करना सख्त मना है।

सूर्य उदय से पहले कुछ खाना रोजेदारों द्वारा खाया जाता है जो व्रत रखते हैं, इसे मुस्लिम समुदाय द्वारा सुहूर (सेहरी) भी कहा जाता है।

जबकि रोजेदारों द्वारा दिनभर उपवास रखने के बाद शाम को जो भोजन लिया जाता है, उसे इफ्तार कहा जाता है।

रमजान माह के दौरान लोग खजूर खाकर रोजा तोड़ते हैं, क्योंकि इस्लामी मान्यताओं से पता चलता है।

कि अल्लाह के रसूल को खजूर खाकर उसके रोजे को तोड़ने के लिए कहा गया था। और तब से, नियमित इफ्तार और सेहरी में खजूर खाते हैं ।

इसके अलावा खजूर खाना भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है।

Also Read :-

Eid Kyu Manaya Jata Hai? ईद की पूरी जानकारी हिंदी में

How I Download From Youtube : Youtube से Videos कैसे Download करे?

SSC का Full Form क्या है? SSC की तैयारी कैसे करें?

WhatsApp Se Paisa Kamane ka Trika – ये है 8 सबसे आसान तरीके

How to Make Money From Instagram – इंस्टाग्राम से पैसे कैसे कमाए

20 Ideas To Make Money Online

10 Free Ways To Earn Money Without Any Investment

विज्ञान के अनुसार खजूर पेट की समस्याओं, लीवर और अन्य कमजोरियों के इलाज में मदद करते हैं, इसलिए खजूर का सेवन रोजदार करते हैं।

रमजान का यह महीना ईद-उल-फितर के साथ खत्म होता है, जिसे मीठी ईद भी कहा जाता है।

इस दिन मुस्लिम समुदाय के सभी लोगों के लिए खुशी की दिन होती है।

इस दिन वे नए कपड़े पहन कर ईदगाह पर नमाज अदा करते हुए खुदा का शुक्रिया अदा करते हैं।

और गले मिलते हैं और एक-दूसरे को बधाई देते हैं।

रमजान का महत्व

मुस्लिम समुदाय के हर व्यक्ति के लिए रमजान का महीना सबसे पवित्र महीना होता है।

रमजान के इस पवित्र महीने में मुसलमानों द्वारा पूरे महीने रोजे रखे जाते हैं, ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति रोजा रखता है,

उसे अल्लाह अपने सभी पापों के लिए माफ कर देते हैं।

इसलिए, रमजान का महीना हर मुसलमान के लिए साल का सबसे खास महीना होता है!

माना जाता है कि रमजान के महीने में जन्नत के दरवाजे खुले रहते हैं।

इसलिए रमजान में अल्लाह के प्रति श्रद्धा रखने वाले सभी मुसलमानों द्वारा रोजा रखा जाता है।

और रमजान के बाद ईद का त्योहार मुसलमानों द्वारा मनाया जाता है।

क्यों मनाया जाता है रमजान?

ramzan
ramzan

इस्लाम धर्म की मान्यताओं के अनुसार रमजान का महीना संयम और संयम का महीना है?

इसलिए रमजान माह के दौरान मुस्लिम समुदाय द्वारा रोजा रखने का मुख्य कारण ‘गरीबों के दर्द और पीड़ा को समझना’ है।

इस्लामी मान्यताओं के अनुसार, रमजान के महीने में रोजा रखने से दुनिया में रहने वाले गरीबों का भूख और दुख महसूस होता है!

रोजा के दौरान संयम की आंखों, नाक, कान, जीभ को नियंत्रण में रखना होता है।

क्योंकि रोजे के दौरान ना आप किसी को बूरा कह सकते है और ना ही बूरा सुन सकते है।

ऐसे में रमजान का रोजा रखने से मुस्लिम समुदाय को अपनी धार्मिक श्रद्धा के साथ-साथ संयम बनाए रखने और बुरी आदतों को छोड़ने की भी शिक्षा देता है।

मन पवित्र हो जाता है और रोजा के दौरान सभी बुरे विचार मन से दूर हो जाते हैं।

रमजान का इतिहास?

इस्लाम धर्म में रमजान का रोजा रखने की प्रथा बहुत पुरानी है रमजान क्यों मनाया जाता है।

इस्लामी धर्म की मान्यताओं के मुताबिक, जब मोहम्मद साहब (इस्लामी पैगंबर) को साल 610 ईस्वी में इस्लाम की पवित्र किताब कुरान शरीफ के बारे में पता चला,

तब से रमजान इस्लाम के महीने का सबसे लोकप्रिय धर्म है। इसे पवित्र माह के रूप में मनाया गया।

इस महीने इस्लाम धर्म के पवित्र होने का एक मुख्य कारण भी है, कुरान के अनुसार, अल्लाह ने पैगंबर साहब को अपने दूत के रूप में चुना था!

इसलिए यह महीना मुस्लिम समुदाय के हर व्यक्ति के लिए Special होता है, जिसमें रोजा रखना अनिवार्य माना जाता है।

Shop Now With Amazon :- Click Here

तो दोस्तों आज हम इस ब्लॉग की मदद से रमजान क्यों मनाया जाता है? इसकी पूरी सच्चाई क्या है? हिंदी में जाना है। इसमें आपको किसी भी तरह की कोई Doubt या परेशानी हो तो आप बेझिझक हमसे Comment के जरिये पूछ सकते है , अगर आपके लिए ये Article Helpful रहा तो आप इसे शेयर जरूर करे ताकि आपके जैसा बहुत लोग है जिसे नहीं पता है। दोस्तों आपकी एक शेयर से किसी की Help हो जाएगी। अगर अभी तक हमारे Facebook Page को लाइक नहीं किया है तो लाइक जरूर करें।

“धन्यवाद्”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here