दोस्तों आज के समय में ATM को कौन नहीं जानता पर Atm Full Form या ATM का फुल फॉर्म क्या है, क्या Atm का कोई फुल फॉर्म भी होता है।

आज रोज मर्रा की जिंदगी में ATM का इस्तेमाल बहुत ही आम हो गया है।

और हर कोई इसका इस्तेमाल करता है। चाहे वह नकदी निकालने के लिए हो ,

या फिर शॉपिंग के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। दोस्तों Atm हमारे बहुत सारे काम आती है।

कई बार हम सोचते है की शायद ATM का Full Form Automatic Transaction Machine या Any Time Money इत्यादि हो सकता है।

मगर दोस्तों Reality इससे कोसो दूर है। और सबसे खास बात तो ये है की ये Question कभी कभी Exams में भी आ जाता है।

लेकिन हमारे पास इस सवाल का कोई भी जवाब नहीं होता है। और जो हमें पता भी होता है वह गलत होता है।

तो चलिए दोस्तों सबसे पहले ATM Full Form को जानने से पहले ATM क्या है इसकी पूरी जानकारी Detail में समझते है।

 

ATM क्या है

दोस्तों ATM एक इलेक्ट्रो-मैकेनिकल Machine है। जिसका उपयोग पैसा यानी नकदी निकासी के लिए कर सकते है।

इसके साथ साथ आप इसका इस्तेमाल Balance Enquiry , Found Transfer , Atm Pin Change , Atm Pin Generation के लिए कर सकते है।

इतना ही नहीं दोस्तों आप ये सोचो की बिना Bank जाए। आप सभी काम बिना बैंक के चक्कर लगाए कर सकते है।

जैसे मान लीजिये की आप किसी भी Bank में पैसा निकालने जाते है तो एक Cashier आपको पैसा गिनती करके देता है।

परन्तु ATM में ऐसा नहीं है। ATM Machine का लाभ लेने के लिए सबसे पहले आपको ATM Card के लिए Apply करना पड़ता है।

इसके कुछ टाइम बाद आपको Bank द्वारा एक Card Provide कराया जाता है। जिसको हम ATM Card कहते है।

जी हा दोस्तों आप Atm का इस्तेमाल करके बिना बैंक जाये बैंक का पूरा लाभ आसानी से उठा सकते है।

(ATM Full Form – ATM का फुल फॉर्म क्या है?)

हालाँकि की हम और आप एक ही ATM के बारे में जानते है। पर क्या आप जानते है कि ATM दो प्रकार के होते है।

 पर इन दोनों में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता है। दोनों लगभग एक ही तरह से काम करता है। 

बस फर्क ये है की एक Atm से सिर्फ Cash निकाल सकते है। और दूसरे से आप बहुत सारे काम कर सकते है। 

जैसे आप Found Transfer कर सकते है , एटीएम में चेक जमा कर सकते है , अपना ATM PIN Change कर सकते है,

Balance चेक कर सकते है , अपने अकाउंट के Mini Statement का प्रिंट ले सकते है ,

यहाँ तक की दोस्तों इससे आप Mobile या किसी अन्य Bill Payments भी कर सकते है।

दोस्तों इससे भी बहुत कुछ कर सकते है। चलिए अब जानते है ATM Ka Full Form Kya Hai.

 

ATM FULL FORM

तो दोस्तों अब हम जान लेते है की Atm का फुल फॉर्म क्या है।

A- Automated

T- Teller

M- Machine

अगर हम इसका पूरा नाम कहे तो इसे हम Automated Teller Machine कह सकते है। 

 

ATM Full Form हिंदी में

अंग्रेजी में तो हमें पता चल ही गया मगर कभी कभी हम सोचते जरूर है की इसका हिंदी फुल फॉर्म भी क्या हो सकता है। 

A- आटोमेटेड

T- टेलर

M- मशीन

अगर हम इसका पूरा नाम बताये तो इसे आटोमेटेड टेलर मशीन कहा जाता है। 

 

ATM Other Full Forms

अब आप सोचोगे की क्या यार ऐसा भी हो सकता है। क्या ATM का कोई दूसरा नाम भी है। 

तो आप बिलकुल सही सोच रहे हालाँकि ये पहले वाले एटीएम से बिलकुल अलग हैl नहीं है। तो चलिए जान लेते है। 

  1. 1.Angkatan Tentera Malaysia
  2. 2.Air Trafic Management
  3. 3.Asynchronous Transfer Mode
  4. 4.Association Of Teachers Of Mathamatics

 

ATM Other Parts

दोस्तों आप जब भी एटीएम जाते होंगे तो देखते होंगे की एटीएम के अंदर कई सारे उपकरण लगे होते है।

तो चलिए इसी के बारे बात करते है। दोस्तों ATM के दो पार्ट्स होते है :-

1.Input

2.Output

1.Input

दोस्तों Input Device भी दो प्रकार के होते है।

 

Card Reader

कार्ड रीडर एटीएम / डेबिट या बैंक कार्ड की फिर से चुंबकीय पट्टी पर रिटेलर खाता डेटा कैप्चर करता है।

होस्ट प्रोसेसर कार्डधारक की वित्तीय संस्था पर लेनदेन के लिए इस डेटा का उपयोग करता है।

 

Keypad

Keypad के साथ, कार्डधारक एटीएम के अंदर Keypad की मदद से अपने कार्ड के पिन को बता सकते हैं और कितने पैसे निकालने हैं।

इसके साथ, वे एटीएम मशीन के भीतर Keypad की मदद से बड़े आसानी से कई जानकारी दर्ज कर सकते है।

यह सब जानकारी एक ब्लॉक के रूप में एन्क्रिप्टेड है और वित्तीय संस्थान के होस्ट सर्वर के लिए भेजा गया है।

 

2.Output

दोस्तों ये चार प्रकार के होते है तो चलिए जानते है।

 

Screen

दोस्तों स्क्रीन के थ्रो आप वह सभी डिटेल्स पा सकते है जो आप अपने जानना चाहते है।

दोस्तों आप जो भी एटीएम के टाइप करते है उसे स्क्रीन के जरिये देख सकते है।

इसके अंदर मोनोक्रोम या कलर CRT (कैथोड रे ट्यूब) डिस्प्ले का उपयोग किया जाता है जिससे आपको बेहतर रिजल्ट मिलता है।

Speaker

दोस्तों स्पीकर अब लगभग सभी एटीएम में मौजूद रहता है। हालाँकि इसकी ज्यादा जरूरत नहीं होती है।

इसका उपयोग सिर्फ एक बटन दबा कर होता है। इसके Throw आप जो Transation करते है उसी का Audio फीडबैक देता है।

 

Cash dispenser

दोस्तों एटीएम का ये सबसे महत्पूर्ण Output Device में से एक है।

किउंकि इसका इस्तेमाल Cash निकलने के लिए किया जाता है।

 

Receipt printer

Transaction पूरा होने के बाद आपको एटीएम द्वारा एक Receipt प्रदान किया जाता है।

जिसके अंदर निकासी राशि , बचा हुआ राशि , दिनांक , समय , स्थान इत्यादि का डिटेल दिया होता है।

 

Also Read :-

How I Download From Youtube : Youtube से Videos कैसे Download करे?

SSC का Full Form क्या है? SSC की तैयारी कैसे करें?

WhatsApp Se Paisa Kamane ka Trika – ये है 8 सबसे आसान तरीके

How to Make Money From Instagram – इंस्टाग्राम से पैसे कैसे कमाए

20 Ideas To Make Money Online

10 Free Ways To Earn Money Without Any Investment

 

ATM Types

दोस्तों चलिए अब हम एटीएम के प्रकार के बारे में जानते है।

 

Online ATM

ऑनलाइन एटीएम हमेशा Bank के डेटाबेस से संबंधित होते हैं और ऑन-लाइन वास्तविक समय लेनदेन करते हैं।

Bank द्वारा निकासी की सीमा और खाता शेष की निरंतर निगरानी की जाती है।

ऑनलाइन एटीएम हर समय आपके लिए उपलब्ध होता है।

 

Offline ATM

दोस्तों ऑफलाइन एटीएम बैंक के डेटाबेस से कनेक्ट नहीं होता है।  इसलिए इसमें Withdrowl Limit पहले ही तय कर दी जाती है।

जिससे आप सिर्फ उस लिमिट के अंदर ही रहकर Transaction कर सकते है। भले ही आपके अकाउंट में पैसा क्यूँ ना हो।

 

Onsite ATM

दोस्तों ये एटीएम बैंक परिसर के अंदर होता है। और बैंक के साथ चलता है।

 

Onsite ATM

दोस्तों ये भी बैंक परिसर के अंदर ही होता है। लेकिन बैंक ब्रांच के अंदर नहीं बल्कि कही भी हो सकता है।

ये शॉपिंग मॉल , हॉस्पिटल , एयरपोर्ट जैसे जगहों पर मौजूद होता है।

 

Stand Alone ATM

स्टैंड अलोन एटीएम किसी भी एटीएम या बैंक से कनेक्ट नहीं होता है। ये एटीएम के ब्रांच और लिंक ब्रांचेज तक ही रहता है।

 

White Label ATM

दोस्तों Non- Banking द्वारा स्थापित किया गया एटीएम को White Label Atm कहते है।

 

Brown Label ATM

ब्राउन लेबल का स्वामित्व और रखरखाव एटीएम सेवा आपूर्तिकर्ताओं द्वारा किया जाता है,

जबकि जिन बैंकों के निर्माताओं का उपयोग एटीएम में किया जाता है।

 

Orange Label ATM

Orange Label ATM Share Transaction के लिए किये जाते हैं।

 

Yellow Label ATM

Yellow Label ATM ई-कॉमर्स Reasons के लिए प्रदान किए जाते हैं।

 

Pink Label ATM

Pink Label ATM का केवल महिलाओं के लिए प्रदान किये जाते है।

 

Green Label ATM

Green Label ATM केवल कृषि Transaction के लिए प्रदान किए जाते हैं।

 

ATM Full Form History

दोस्तों हमने अभी तक Atm Full Form से लेकर एटीएम से related सभी जानकारी इकठा कर लिए है।

अब हम थोड़ा एटीएम के इतिहास के बारे में जान लेते है की आखिर एटीएम की शुरुआत कब और कहा से हुई है।

दोस्तों एटीएम का आविष्कार जॉन शेफर्ड बेरों ने किया था।

इसी के साथ दुनिया का पहला ATM Barclays Bank Londan में 27 June 1967 में किया गया था।

और दोस्तों इसका इस्तेमाल दुनिया के प्रशिद्ध अभिनेता रेंग वर्णी ने सबसे पहले कॅश निकाल कर किया था।

अब अगर हम अपने देश भारत की बात करे तो यहाँ 1987 में भारतीय स्टेट बैंक केरला

में HSBC ( HongKong Or Sanghai Banking Corporation ) द्वारा स्थापित किया गया था।

 

Shop Now With Amazon :- Click Here

तो दोस्तों आज हम इस ब्लॉग की मदद से ATM Full Form – ATM का फुल फॉर्म क्या है? के बारे में जाना। है।  इसमें आपको किसी भी तरह की कोई Doubt या परेशानी हो तो आप बेझिझक हमसे Comment के जरिये पूछ सकते है , अगर आपके लिए ये Article Helpful रहा तो आप इसे शेयर जरूर करे ताकि आपके जैसा बहुत लोग है जिसे नहीं पता है।  दोस्तों आपकी एक शेयर से किसी की Help हो जाएगी। अगर अभी तक हमारे Facebook Page को लाइक नहीं किया है तो लाइक जरूर करें।

“धन्यवाद्”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here