ICU Full Form : आईसीयू की पूरी जानकारी हिंदी में

ICU Full Form : आईसीयू की पूरी जानकारी हिंदी में
ICU Full Form : आईसीयू की पूरी जानकारी हिंदी में

दोस्तों ICU क्या है , ICU Full Form क्या है , ICU में क्या होता है , इस तरह के कई सवाल कभी कभी हमारे Exams या Competition में आ जाते है।

स्वाभाविक बात है की आप जब तक इसके बारे में पढोगे नहीं आपको कभी पता नहीं चल पाएगा की ICU Full Form Kya hai .

और ये भी स्वाभाविक है की अगर आप इसके बारे में पहले ही जान लिया होता तो आप इसका उत्तर बड़े ही आसानी से  दे दिया होता।

इसके साथ कई बार हमारे कोई Relatives भी बहुत बीमार हो जाते है और उसे ICU में भर्ती कर दिया जाता है।

तो भी हमारे सामने ICU के Related उत्तर जानने की जिज्ञासा जाग जाती है।

दोस्तों ICU में उसे भर्ती किया जाता है जिसकी हालत गंभीर होती है।

ताकि उसे अच्छी टेटमेंट मिले क्यूंकि ICU में डॉक्टर 24 घंटे मौजूद होते है। और ICU के अंदर बहुत सारे Emergency Equipment मौजूद होते है।

दोस्तों देखा जाए तो ICU हर बड़े छोटे हॉस्पिटल में पहले ही मौजूद होते है।

तो चलिए दोस्तों आज हम इस Article की मदद से ICU क्या है , ICU Full Form क्या है , के साथ-साथ आईसीयू की पूरी जानकारी हिंदी में जानेंगे।

 

ICU क्या है?

दोस्तों मैंने आपको पहले ही बता दिया है कि ICU Ward सभी बड़े छोटे अस्पताल में मौजूद होता है।

इसका मतलब होता है कि किसी भी हॉस्पिटल के अंदर एक अलग रूम जिसको Emergency Room भी कहते है।

जब किसी को गंभीर बिमारी या चोट हो और उसकी हालत नाजुक हो तभी डॉक्टर्स उसे अपने निगरानी में रखते है।

इसके लिए ही Emergency Ward यानी ICU बनाया जाता है। जिसमे बहुत सारी Special Devices और Medicines पहले से उपलब्ध होते है।

दोस्तों ICU में हमेशा Senior Doctors की देख रेख में रखा और इलाज किया जाता है।

और Normal Ward के मुकाबले Emergency Ward में हमेशा नर्स की संख्या ज्यादा होती है।

ऐसे तो दोस्तों हॉस्पिटल पर Depend करता है कई बार बड़े हॉस्पिटल में सभी तरह की बिमारी का इलाज उपलब्ध होता है।

और उसके लिए अलग-अलग Emergency Ward भी होते है।

परन्तु कई बार हालात बहुत बिगड़ने पर दूसरे हॉस्पिटल में भी Transfer किया जाता है।

दोस्तों ICU इलाज का सबसे Last Step है अब इसमें आप कितना जल्दी ठीक होते है।

ये आपके बिमारी पर निर्भर करता है। कई बार patient जल्दी ठीक हो जाता है।

दोस्तों कई बार मरीज को काफी समय ठीक होने में लग जाता है।

 

ICU Full Form क्या है?

चलिए दोस्तों जानते है की ICU का Full Form क्या है। 

English में इस Incentive Core Unit कहते है।

Hindi में इसे गहन चिकित्सा विभाग भी कहते है।

 

Also Read :-

How I Download From Youtube : Youtube से Videos कैसे Download करे?

SSC का Full Form क्या है? SSC की तैयारी कैसे करें?

WhatsApp Se Paisa Kamane ka Trika – ये है 8 सबसे आसान तरीके

How to Make Money From Instagram – इंस्टाग्राम से पैसे कैसे कमाए

20 Ideas To Make Money Online

10 Free Ways To Earn Money Without Any Investment

 

 

ICU में इस्तेमाल में आने वाले कुछ Equipment

दोस्तों ऐसे तो ICU में आपको बहुत सारे उपकरण देखने को मिल जाते है परन्तु आज हम आपको कुछ अनिवार्य उपकरण के बारे में बताने जा रहे है :-

 

1.Ventilators

वेंटिलेटर जिसे हम “साँस लेने की मशीन” भी कह सकते है इसका Use साँस लेने के काम करती है।

वेंटिलेटर का उपयोग श्वास लेने या फेफड़ों के कार्य में सहायता करने के लिए किया जाता है।

मशीन विंडपाइप (ट्रेकिआ) में डाली गई ट्यूब के माध्यम से या कसकर फिटिंग मास्क का उपयोग करके फेफड़ों में हवा भरती है।

यह शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने और कार्बन डाइऑक्साइड को हटाने में मदद करती है।

कभी-कभी आईसीयू के रोगियों को वेंटिलेटर की आवश्यकता होती है

क्योंकि वे अपने आप साँस नहीं ले पाते है इसलिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।

 

2.Monitors

आईसीयू में गंभीर रूप से बीमार रोगियों को बहुत ज्यादा निगरानी की आवश्यकता होती है।

आप ऐसे इतनी ज्यादा निगरानी नहीं कर सकते इसलिए इस तरीके से ICU में कई रोगियों की निगरानी की जाती है,

एक डिजिटल मॉनिटर पर उनके “Vital Signs” (हृदय गति और लय, रक्तचाप और श्वसन दर) को प्रदर्शित किया जाता है।

ICU केयर टीम मरीज के बेडसाइड और मुख्य यूनिट डेस्क पर इन मॉनिटरों को देख रेख करती है।

 

3.Dialysis

एक डायलिसिस मशीन, या “artificial kidney” एक उपचार है

जिसका उपयोग गुर्दे के काम को और रक्त से तरल पदार्थ, अपशिष्ट उत्पाद और कुछ जहर निकालने के लिए किया जाता है।

 

4.IV Pumps

ICU में दी गई कई दवाओं को intravenous catheter (IV) के उपयोग से सीधे रक्त में दिया जाता है।

इन दवाओं के निरंतर प्रवाह (संक्रमण) या अतिरिक्त खुराक (बोल्ट) से बचने के लिए

डॉक्टरों और नर्सों द्वारा प्रोग्रामेबल IV पंप का उपयोग करके दवा दिया जाता है।

आप अक्सर नर्सिंग स्टाफ को दवाओं को आईवी पंपों में डालते हुए देखा होगा ,

दवा के खुराक की प्रोग्रामिंग करके उसमे अलार्म लगा देते है। जिसे बजते ही उसे इंजेक्ट कर दिया जाता है।

 

5.Feeding Tubes

फीडिंग ट्यूब पोषण और तरल पदार्थ शरीर में पहुंचाने का एक तरीका है

जब गंभीर रूप से बीमार रोगी खाने में सक्षम नहीं होते हैं।

तो आमतौर पर, ट्यूब को नाक (नासोगैस्ट्रिक या एनजी ट्यूब) के माध्यम से पेट में डाला जाता है।

कभी-कभी दूध पिलाने वाली ट्यूब को त्वचा (गैस्ट्रोनॉमी ट्यूब या खूंटी) के माध्यम से सीधे पेट में रखा जाता है।

आईसीयू आहार विशेषज्ञ तरल भोजन मिश्रण का चयन करने में मदद करते हैं

जो प्रत्येक गंभीर रूप से बीमार रोगी को सर्वोत्तम पोषण प्रदान करता है।

इस तरल खाद्य मिश्रण को एक प्रोग्रामेबल पंप का उपयोग करके रोगी के पेट में फीडिंग ट्यूब के माध्यम से पंप किया जाता है।

 

ICU में Admit क्यों किया जाता है?

दोस्तों अब तक आपको तो समझ आ ही गया होगा ICU के बारे में। अब हम बात करेंगे की आईसीयु के मरीज को कब लाया जाता है।

दोस्तों अगर कोई छोटी या बड़ी बिमारी होती है तो सबसे पहले हम मरीज़ को हॉस्पिटल के Normal Ward में दिखते है।

फिर अगर मामला थोड़ा गंभीर होता है तो डॉक्टर उसे नार्मल वार्ड में भर्ती ले लेता है।

इसके बाद अगर मरीज़ की हालत ठीक नहीं होती बल्कि और बिगड़ जाती है।

तो फिर Last Option में ICU में मरीज़ को भर्ती कर इलाज शुरू किया जाता है।

या फिर ,

जब किसी मरीज को कोई गंभीर बिमारी हो और उसका लम्बे समय से इलाज़ के बावजूद कोई सुधार न हुआ हो।

तो डॉक्टर्स उसे भी सीधे ICU में भर्ती कर लेता है। और वही उसका इलाज करता है।

या फिर ,

दोस्तों अगर कोई गंभीर Accidental Case होता है तो उसे तुरंत ICU में भर्ती कर लिया है।

क्यूंकि दोस्तों आप सभी को पता होगा की ऐसे Case में बहुत जल्दी इलाज की जरूरत होती है।

और ऐसा इलाज मरीज को ICU में ही मिलता है।

क्यूंकि दोस्तों जैसा मैंने ऊपर आप सभी को बता है की Normal Ward के मुकाबले ICU में डॉक्टर्स और नर्स के साथ साथ मशीन भी ज्यादा होती है।

 

Shop Now With Amazon :- Click Here

तो दोस्तों आज हम इस ब्लॉग की मदद से ICU Full Form : आईसीयू की पूरी जानकारी हिंदी में जाना है। इसमें आपको किसी भी तरह की कोई Doubt या परेशानी हो तो आप बेझिझक हमसे Comment के जरिये पूछ सकते है , अगर आपके लिए ये Article Helpful रहा तो आप इसे शेयर जरूर करे ताकि आपके जैसा बहुत लोग है जिसे नहीं पता है। दोस्तों आपकी एक शेयर से किसी की Help हो जाएगी। अगर अभी तक हमारे Facebook Page को लाइक नहीं किया है तो लाइक जरूर करें।

 

“धन्यवाद्”

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here